गोदान by Omkar S. Kasar XIC

पुस्तक का नाम – गोदान
लेखक – मुंशी प्रेमचंद
प्रकाशक -भारतीय ग्रन्थ निकेतन
प्रकाशन वर्ष – १९९४
मूल्य – १५० रूपये
कथानक – यह मुंशी प्रेमचंद का कृषक जीवन पर आधारित कालजयी उपन्यास है I इसमें छोटे किसान के जीवन में आने वाली अनेक कठिनाइयों का सजीव चित्रण है I यह उपन्यास आज भी प्रासंगिक है I इसमें होरी नामक एक छोटा किसान गरीबी  से  जूझ रहे किसानों का प्रतिनिधित्व करता हैI तो धनिया होरी की पत्नी हर मुसीबत में उसका साथ देती है I उसके मन में जमीनदारों के प्रति आक्रोश है परन्तु होरी कहता है कि जब दूसरे पांवों तले अपनी गदन दबी हो तो उन पांवों को सहलाने में ही कुशलता है I होरी का पूरा जीवन एक गाय को अपने दरवाजे पर बांधने  और गोरस को पीने की आशा में व्यतीत हो जाता है I प्रकृति की मार झेलते  और सेठ साहूकारों के कर्ज से दबे  होरी का जब प्राणांत हो जाता है तो उसकी पत्नी से गोदान कराने  की  बात की जाती है I यह उपन्यास का मार्मिक क्षण है I
निष्कर्ष – इस उपन्यास को पढकर आप तत्कालीन परिस्थितियों से रूबरू हो सकेंगे साथ ही मुंशी प्रेमचंद के बेजोड कथा साहित्य का रसास्वादन भी कर सकेंगे I
सुझाव – यह उपन्यास केन्द्रीय विद्यालय क्र १ देवलाली के पुस्तकालय में उपलब्ध है Iकृपया आप इसे  जरुर पढ़ें और हिन्दी साहित्य की गहराई को समझें I

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.